Elections

जेल में प्रताड़ित किये जाने की व्यथा सुनाते-सुनाते रो पड़ी साध्वी प्रज्ञा सिंह- देखें वीडियो

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

भोपाल संसदीय सीट से भाजपा प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर जेल में अपनी आपबीती और व्यथा सुनाते-सुनाते गुरुवार को भावुक हो गई और अचानक रोने लगी।

यहां मानस भवन में अपने चुनाव प्रचार के पहले ही दिन 48 वर्षीय प्रज्ञा ने 29 सितम्बर, 2008 को मालेगांव में हुये धमाकों में महाराष्ट्र के आतंकवाद विरोधी दस्ते द्वारा उन्हें गिरफ्तार कर जेल में रख कर प्रताड़ित करने की व्यथा सुनाई।

उन्होंने कहा, ‘‘जब मुझे गैर कानूनी तरीके से लेकर गये तब 13 दिन तक रखा। पहले ही दिन बिना कुछ पूछे हुए उन्होंने मुझे बुलाया। ढेर पुलिस थी और पीटना शुरू किया। (हाथ से इशारा करते हुए) इतनी चौड़ी बेल्ट रहती है और उस बेल्ट में लकड़ी की मजबूत मूंठ लगा देते थे। यदि वह बेल्ट आपके हाथ में पड़ेगी तो हाथ सूज जाएगा। दूसरा बेल्ट झेल पाओगे तो आपके हाथ फट जाएंगे।’’ 

प्रज्ञा ने कहा, ‘‘ये (पुलिस) जो बेल्ट मारते थे, पूरा ‘नर्वस सिस्टम’ (तंत्रिका तंत्र) ढ़ीला पड़ जाता था, सुन्न पड़ जाता था। ये दिन-रात चलता था। इतनी गंदी-गंदी गाली देते थे कि कोई स्त्री सुन न सके।’’ 

उन्होंने कहा, ‘‘मैं आपके सामने अपनी पीड़ा नहीं बता रही हूं। लेकिन इतना बता रही हूं कि और कोई बहना कभी भी इसके बाद इस पीड़ा का सामना न कर सके।’’ 

यह बातें कहती-कहती वह कई बार भावुक हुई और रोने लगी। कई बार वह अपना चश्मा उतार कर रूमाल से आंसू पोंछते भी देखी गई। भोपाल लोकसभा सीट पर उनके खिलाफ कांग्रेस के दिग्गज नेता एवं मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह सामने हैं। 12 मई को इस पर मतदान होना है।

यह भी पढ़े- दिग्विजय सिंह का साध्वी प्रज्ञा पर तंज, 'भोपाल में प्रज्ञा का स्वागत करता हूं'


 

DO NOT MISS