Elections

मतदाताओं ने विरोधी पार्टियों के महागठबंधन को खारिज कर दिया है :योगी आदित्यनाथ

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

लोकसभा चुनावों में भाजपा की भारी जीत के बाद उप्र के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को कहा कि 'सर्तक मतदाताओं ने विरोधी पार्टियों के महागठबंधन को खारिज कर दिया है।' 

आदित्यनाथ ने कहा, 'यह सही समय है जब विपक्ष नकारात्मकता के बारे में आत्मनिरीक्षण करे। समझदार और सर्तक मतदाताओं ने गठबंधन की अवसरवादी और जातिवादी राजनीति को सिरे से खारिज कर दिया है।’’ 

उन्होंने पार्टी की एतिहासिक जीत का सेहरा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह के सिर बांधा ।

अभी तक प्राप्त रूझानों के अनुसार उप्र की अस्सी लोकसभा सीटों में से 60 पर भाजपा के उम्मीदवार आगे चल रहे हैं।

उन्होंने कहा, 'मोदी जी ने पांच वर्ष में इस देश को हर क्षेत्र में आगे बढ़ाने के लिये जो शानदार काम किया है, यह उसका परिणाम है। जनता ने एक तरीके से नकारात्मक राजनीति को सिरे से खारिज किया है।’’ 

उन्होंने कहा, 'विकास, राष्ट्रवाद और सुशासन के मुद्दे पर मोदी जी के नेतृत्व पर फिर से विश्वास किया है। हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की संगठनात्मक रणनीति से आम जन की उन भावनाओं को मतदान में बदलने के लिये जो रणनीति बनाई थी, उसी का परिणाम है यह जीत। भाजपा पहली बार 300 सीट का आंकड़ा प्राप्त कर रही है और एनडीए 350 का आंकड़ा पार कर रही है। भाजपा के करोड़ों कार्यकर्ताओं का कोटि-कोटि अभिनंदन करता हूं।' 

सपा-बसपा, कांग्रेस की राजनीति के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, 'मोदी जी की आंधी में यह सब उड़ चुके हैं, सबसे अच्छी बात यह है कि जो नकारात्मक राजनीति कांग्रेस, सपा-बसपा ने प्रारंभ की उसका उन्हें खमियाजा भी भुगतना पड़ा। देश विकास और सुशासन की, सुरक्षा और राष्ट्रवाद की राजनीति को ही आगे रखना चाहता है। पूरे देश ने इसे स्वीकार किया है और हाथोंहाथ लिया है।' 

एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, 'कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने उप्र में 2014 में भी प्रचार किया था और 2017 में भी और इस बार भी लेकिन इसके बावजूद कांग्रेस को कुछ हासिल नहीं हुआ।' 

योगी ने कहा, 'जातिवाद और परिवारवाद की राजनीति के दिन समाप्त, 2019 के इस जनादेश ने यह साबित कर दिया है कि नकरात्मक, वंशवाद और परिवारवाद की राजनीति के लिये अवसरवादी राजनीतिज्ञों के लिये अब राजनीति में कोई जगह नहीं है।
 

DO NOT MISS