Elections

केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह अपनी ही पार्टी बीजेपी से कुछ यूं हुए खफा, जानें वजह...

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

सत्ता के महामुकाबले यानि लोकसभा चुनाव 2019 के लिए चुनावी बिगुल बज चुका है। सभी सियासी पार्टियों ने अपनी-अपनी कमर कस ली है और दांव पेंच आजमाने में जुटे हुए हैं। इस बीच बिहारी की राजनीतिक गलियारे से बड़ी ख़बर आ रही है। मिली जानकारी के मुताबिक बीजेपी के कद्दावर नेता और केंद्र सरकार में मंत्री गिरिराज सिंह अपनी ही पार्टी से कुछ खफा-खफा दिखाई दे रहे हैं।

आज बीजेपी बिहार के उम्मीदवारों का ऐलान कर सकती है। सूत्रों के मुताबिक उम्मीदवारों के नामों का फैसला हो गया है, जिसे राज्य इकाई के पास भेज दिया गया है। बीजेपी 17 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारेगी, उधर केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह नाराज नजर आ रहे हैं।

पूरा देश जब होली मनाने के बाद आराम के मूड में था, तब बीजेपी ने अपने 184 उम्मीदवारों के नाम का ऐलान कर दिया, केंद्रीय मंत्री जेपी नड्डा ने बीजेपी की पहली उम्मीदवारों की लिस्ट जारी की, लेकिन इस लिस्ट में बिहार के उम्मीदवारों का नाम नहीं था, बिहार की 40 सीटों का बंटवारा हो चुका है।

बीजेपी और जेडीयू 17—17 सीटों पर जबकि एलजेपी छह सीटों पर चुनाव लड़ने जा रही हैं। पिछली बार मोदी लहर में बीजेपी ने एलजेपी और आरएलएसपी के साथ मिलकर 40 में से 31 सीटें जीत ली थीं। इस बार एनडीए को सबसे ज्यादा फायदा जेडीयू के साथ आने से हो रहा है।

बहरहाल अब बीजेपी के 17 उम्मीदवारों पर नजरें टिकी हुई हैं, माना जा रहा है कि आज बीजेपी के उम्मीदवारों की लिस्ट आ सकती है, वहीं दूसरी तरफ बिहार बीजेपी के बड़े नेता और केंद्र में मंत्री गिरिराज सिंह नाराज नजर आ रहे हैं।

गिरिराज सिंह ने पार्टी को साफ कर दिया है, वो सिर्फ नवादा से ही चुनाव लड़ेंगे और अगर उन्हें यहां से टिकट नहीं दिया गया, तो वो चुनाव नहीं लड़ेंगे। यहां ये बताना जरूरी है कि केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान की पार्टी एलजेपी जिन छह लोकसभा सीटों पर चुनाव लड़ने जा रही है उसमें नवादा भी शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें - कांग्रेस का 'हाथ' थामेंगे 'बिहारी बाबू', पटना साहिब से उम्मीदवार होंगे शत्रुघ्न सिन्हा: सूत्र

सीटों के बंटवारे में एलजेपी के हिस्से में नवादा सीट दी गई है, जिसकी वजह से गिरिराज सिंह की सीट खतरें में पड़ गई है, बिहार बीजेपी की लिस्ट में देरी की वजह भी यही हो सकती है। अब बिहार के प्रभारी भूपेंद्र यादव को गिरिराज सिंह को मनाने की जिम्मेदारी दी गई है, देखना होगा किस गिरिराज सिंह मानते है या नहीं 

DO NOT MISS