Elections

टीएमएसी ने शाह के रोडशो में हिंसा के बाद चुनाव आयोग से मुलाकात का समय मांगा

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने भाजपा एवं उसके कार्यकर्ताओं के बीच हुई झड़पों के दौरान बांग्ला लेखक एवं दार्शनिक ईश्वर चंद्र विद्यासागर की प्रतिमा गिराने के मुद्दे पर चुनाव आयोग से मुलाकात का समय मांगा है। 

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के विशाल रोड शो के दौरान पार्टी एवं तृणमूल कांग्रेस के समर्थकों के बीच कोलकाता की सड़कों पर जबर्दस्त झड़प हो गई थी। हालांकि शाह को किसी तरह की चोट नहीं आई और पुलिस उन्हें सुरक्षित स्थान तक ले गई। 

टीएमसी ने ट्वीट किया, “डेरेक ओब्रायन, सुखेंदु शेखर राय, मनीष गुप्ता, नदीमुल हक वाली तृणमूल संसदीय टीम कोलकाता में शाह के रोड शो के बाद बंगाल की संपदा पर हुए हमले को लेकर चुनाव आयोग से मुलाकात करना चाहती है। भाजपा के बाहरी गुंडों ने आगजनी की और विद्यासागर की आवक्ष प्रतिमा को तोड़ दिया।” 

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह पर मंगलवार को तीखा हमला बोलते हुए कहा था कि वह क्या भगवान हैं जो उनके खिलाफ कोई प्रदर्शन नहीं कर सकता । बनर्जी ने कोलकाता में शाह के रोड़ शो के दौरान भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के समर्थनों और 19  वीं सदी के समाज सुधारक विद्यासागर की प्रतिमा तोड़ने के आरोप भाजपा कार्यकर्ताओं पर लगाया हैं। 


वहीं बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने कहा कि टीएमसी के गुंड़ो ने मुझपर हमला करने की कोशिश की। ममता बनर्जी ने हिंसा भड़काने का प्रायस किया, लेकिन मैं सुरक्षित हूं। शाह ने कहा कि झड़प के दौरान पुलिस मूकदर्शक बनी रही। उन्होंने कहा कि पुलिस ने उन्हें बताया था कि रोड़ शो की इजाजत कॉलेज के पास समाप्त होती है और उन्हें स्वामी विवेकानंद के विधान सारणी के पैतृक आवास पर ले जाया जाएगा।  शाह ने दावा किया , वे नियोजित मार्ग से हट गए और उस रास्ते पर ले गए जहां ट्रैफिक जाम था। मुझे श्रद्धांजलि देने के लिए विवेकानंद के आवास पर नहीं जाने दिया गया और मैं इससे दुख हूं।  शाह ने कहा बंगाल से हिंसा की राजनीति को खत्म करने के लिए TMC को हराना जरूरी है। उन्होंने कहा लोगों से हिंसा का जवाब शांति और मतदान से देने की अपील की।

बता दें अराजक तत्वों ने मौके पर कई बाइक को आग के हवाले किया। कोलकाता पुलिस की मौजूदगी के बीच जमकर हंगामा हुआ।

DO NOT MISS