Elections

राजस्थान: अजय माकन बोले, 'नाराज नेताओं को मना लेगी कांग्रेस'

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अजय माकन ने विश्वास जताया कि पार्टी राज्य में टिकट वितरण से नाराज कार्यकर्ताओं तथा वरिष्ठ नेताओं को मना लेगी और कांग्रेस जोरदार तरीके से सत्ता में लौटेगी. उन्होंने भाजपा की वसुंधरा राजे सरकार पर किसान, युवा, रोजगार तथा महिला सुरक्षा के मुद्दे पर विफल रहने का आरोप भी लगाया. टिकट नहीं मिलने पर पार्टी के कई बड़े नेताओं के बागी होने और कार्यकर्ताओं में नाराजगी के सवाल पर माकन ने यहां संवाददाताओं से कहा, ‘‘ कार्यकर्ताओं की नाराजगी पार्टी का आंतरिक मुद्दा है. हमें पूरी उम्मीद है कि नाराज वरिष्ठ नेताओं को मना लिया जाएगा.’’

उन्होंने कहा कि ऐसे नाराज नेताओं से बात करने के लिए गुलाम नबी आजाद तथा मुकुल वासनिक जैसे बड़े नेता यहां आए हुए हैं. इन नेताओं से बात की जा रही है और पार्टी के बड़े नेता उनसे व्यक्तिगत तौर पर तथा फोन पर संपर्क में है. उन्होंने कहा कि पार्टी किसी को भी पैराशूट या बाहरी उम्मीदवार नहीं मानती क्योंकि जो उसका उम्मीदवार है वह उसका उम्मीदवार ही है. उन्होंने कहा कि पार्टी ने ‘जीत समीकरणों’ को ध्यान में रखते हुए अपने उम्मीदवार तय किए हैं.

माकन ने राज्य की वसुंधरा राजे सरकार पर किसान-खेतीबाड़ी, युवा-रोजगार तथा महिला सुरक्षा के तीन महत्वपूर्ण मोर्चों पर पूरी तरह विफल रहने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा, ‘‘राज्य में सौ से अधिक किसान आत्महत्या कर चुके हैं. न्यूनतम समर्थन मूल्य पर स्थाई तंत्र बनाने की बात तो दूर रही, सरकार ने इसमें टोकन प्रणाली लागू कर दी. सरकार द्वारा लागू टोकन सिस्टम में इतना भ्रष्टाचार हुआ कि बिचौलियों ने लहसुन की फसल दो रुपये प्रति किलो खरीदकर 32.75 रुपये प्रति किलो तक में बेची. मूंग, उड़द फसल बिक्री के लिए फर्जी पंजीकरण के हजारों मामले सवाई माधोपुर, नागौर, जैसलमेर में पकड़े गए हैं.’’ 

माकन ने यूरिया लेने के लिए कतार में लगे किसानों पर लाठीचार्ज का मुद्दा भी उठाया है. उन्होंने कहा, ‘‘राज्य की भाजपा सरकार में राज्य बीज निगम के अध्यक्ष ने स्वीकार किया है कि मुख्यमंत्री के अपने जिले झालवाड़ में राष्ट्रीय बीज निगम के नकली बीज वितरित किए गए हैं.’’ माकन ने कहा कि वसुंधरा राजे सरकार युवाओं को रोजगार व कौशल प्रशिक्षण देने के मामले में भी पूरी तरह विफल रही है.

महिलाओं के खिलाफ अत्याचार के मामलों को जिक्र भी उन्होंने किया. उन्होंने कहा पूरे देश में दुष्कर्म के कुल मामलों में से 13 प्रतिशत केवल राजस्थान में दर्ज होते हैं जबकि राज्य की कुल आबादी देश का 5.5 प्रतिशत ही है. पोस्को एक्ट में 32 मामले दर्ज हुए जबकि सरकार केवल तीन में ही फांसी की सजा दिलवा पाई है. 12 से 15 साल की बच्चियों के स्कूल छोड़ने की दर राज्य में नौ प्रतिशत है जो कि उत्तर प्रदेश के बाद देश में सबसे अधिक है. महिला अत्याचार के मामलों में राजस्थान पूरे देश में दूसरे स्थान पर है.

उन्होंने कहा कि इन मुद्दों पर राजे सरकार पूरी तरह विफल रही है और राज्य के लोग कांग्रेस की सरकार को याद कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस जोरदार ढंग से सत्ता में लौटेगी.

DO NOT MISS