Elections

राजस्थान: टोंक से टिकट मिलने को लेकर बीजेपी नेता ने जताई नाराजगी, कहा- मैं खुश नहीं हूं लेकिन पार्टी का आदेश मानूंगा

Written By Gaurav Kumar | Mumbai | Published:

राजस्थान में टिकट बंटवारे को लेकर भारतीय जनता पार्टी के नेताओं की नाराजगी साफतौर पर देखी जा सकती है. इस वजह से ही हाल ही में बीजेपी ने अपनी पार्टी के 11 नेताओं को पार्टी से भी निकाल दिया है. वहीं अब एक वीडियो सामने आया है जिससें बीजेपी के मंत्री राजस्थान के डीडवाना विधानसभा सीट से टिकट नहीं मिलने को लेकर नाराज हैं. हालांकि उन्होंने कहा है कि वो पार्टी की बात को मानेंगे. भाजपा ने अपने मंत्री यूनुस खान को सचिन पायलट के खिलाफ टोंक से मैदान में उतारा है.

बता दें, टोंक विधानसभा क्षेत्र में मुसलमानों की आबादी काफी अधिक है इसलिए बीजेपी ने एक रणनीति के तहत यूनुस खान को वहां का टिकट दिया है. 

वहीं एक सभा को संबोधित करते हुए यूनुस खान ने कहा कि 'परिवार और हमारे कार्यकर्ताओं के साथ काम करते-करते हमारा ऐसा लगाव हो गया जैसे हम उनके परिवार के सदस्य हैं. वो हमारे परिवार के सदस्य हैं. जब हमारे कार्यकर्ताओं ये पता चला कि मुझे डीडवाना से टिकट नहीं मिल रहा है.. पहली सूची आई .. दूसरी सूची आई उसमें टिकट नहीं मिला ..''

यूनुस खान ने कहा, 'आज मैं इस बात को महसूस कर रहा हूं कि अजीत जी का नाम भी वापस ले लिया गया.. न तो मैं खुश हूं और न ही ये खुश हैं.. लेकिन हमने इसके बावजूद भारतीय जनता पार्टी के इस आदेश को मानने का काम किया.'

वहीं सूत्रों के मुताबिक, टोंक विधानसभा से पहले अजीत मेहता को टिकट दिया गया था. वहीं जब कांग्रेस पार्टी ने टोंक विधानसभा चुनाव के लिए सचिन पायलट को लड़ाने का फैसला किया तब बीजेपी ने अजीत मेहता का टिकट काटकर यूनुस खान को इस सीट पर जीत हासिल करने की जिम्मेदारी सौंपी. 

इसे भी पढ़ें: राजस्थान: BJP की बड़ी कार्रवाई, 11 नेताओं को दिखाया पार्टी से बाहर का रास्ता ..

कुछ दिन पहले ही बीजेपी ने अपने 31 प्रत्याशियों की दूसरी लिस्ट जारी की थी. बता दें, अभी तक बीजेपी ने 200 विधानसभा की सीटों में से 162 उम्मीदवारों की लिस्ट निकाल दी है. वहीं इस बार तमाम सर्वे में दोनों ही पार्टियों (कांग्रेस-बीजेपी) के बीच कड़ी टक्कर होने की बात सामने आ रही है. राजस्थान में 200 विधानसभा सीटों के लिए सात दिसंबर को मतदान के बाद चुनावी नतीजे 11 दिसंबर को आएंगे.

DO NOT MISS