Elections

रिपब्लिक भारत और 'जन की बात' ओपिनियन पोल: माया-अखिलेश गठबंधन का यूपी में कम हुआ है वर्चस्व, BJP को इतनी सीटों का अनुमान

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

लोकसभा चुनाव की तारीखों का  ऐलान हो गया है। सात चरणों में लोकसभा चुनाव होंगे । 11 अप्रैल से चुनाव की शुरुआत हो रही है। 23 मई को नतीजे आ जाएगा। 23 मई को साफ हो जाएगा कि देश में अगली सरकार किसकी बनने वाली है। लेकिन उससे पहले हम आपको बताएंगे कि जनता किसके साथ है और किसके खिलाफ।

रिपब्लिक भारत और 'जन की बात' ने मिलकर एक सर्वे किया है। इस जमीनी सर्वे के जरिए हम आपको बताने वाले हैं कि आज देश का मिजाज क्या है। देश में मोदी आज कितने लोकप्रिय है। और राहुल गांधी किस पायदान पर हैं।

रिपब्लिक भारत और 'जन की बात' का ये सर्वे सबसे सटीक है। आप इस पर पूरा भरोसा कर सकते हैं। इस सर्वे के मुताबिक सबसे ज्यादा लोकसभा सीट वाले उत्तर प्रदेश में कांटे का मुकाबला होने वाला है।

किसके खाते में कितनी सीटें

रिपब्लिक भारत और 'जन की बात' के इस जमीनी सर्वे के मुताबिक उत्तर प्रदेश में एक बार फिर भारतीय जनता पार्टी का गठबंधन NDA सबसे बड़ा दल बनकर उभर सकता है। यहां बीजेपी युक्त NDA के खाते में करीब 43 से 52 सीटों के बीच जाने का अनुमान लगाया गया है। जबकि एक के बाद एक बड़ा झटका झेल रहे सपा-बसपा गठबंधन की झोली में करीब 33 से 25 सीटों के बीच मिलने की आशंका जताई जा रही है। वहीं कांग्रेस का हाल हर बार की तरह यूपी में इस बार भी पस्त ही दिखाई दे रहे है। सर्वे में कयास लगाए जा रहे हैं कि इस बार कांग्रेस को सूबे में 4 से 3 सीटों पर जीत मिल सकती है।

किसको कितना वोट शेयर

अब हम आपको उत्तर प्रदेश में वोट शेयर का अनुमान बताते हैं। यूपीए को 11% वोट, एनडीए को 43%, महागठबंधन को 40% वोट जबकि अन्य को 6% वोट मिलने का अनुमान है।

गौरतलब है कि चुनाव की घोषणा के बाद और सपा-बसपा गठबंधन के बाद उत्तर प्रदेश की राजनीति में कई उतार चढ़ाव देखने को मिला है। गुरुवार को ही समाजवादी पार्टी के टिकट पर सांसद बने प्रवीण निषाद ने भारतीय जनता पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली है।

बता दें, प्रवीण निषाद ने बसपा के समर्थन से और सपा के टिकट पर बीजेपी के गढ़ गोरखपुर से चुनाव में जीत का डंका बजाया था। प्रवीण निषाद जो कि सांसद हैं वो निषाद पार्टी के अध्यक्ष संजय निषाद के बेटे हैं।

DO NOT MISS