Elections

अरुणाचल से PM मोदी का अटैक, कहा- ''विचारों से दीवालिया हो चुकी कांग्रेस पार्टी''

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

चुनावी मौसम में सियासी दांव पेंच का सिलसिला तेज होता जा रहा है। हर कोई अपनी-अपनी पूरी ताकत झोंकने में जुटा हुआ है। ऐसे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अरुणाचल प्रदेश से एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए विपक्ष पर तीखा हमला बोला।

प्रधानमंत्री मोदी ने सीधे तौर पर कांग्रेस पर हमला बोलते हुए कहा कि जो तिरंगे झंडे को जलाते हैं, उसका अपमान करते हैं, जो आपकी तरह ‘जय हिंद’ नहीं, भारत तेरे टुकड़े होंगे का नारा लगाते हैं, जो विदेशी ताकते हाथों में खेलते हैं, जो हमारी विरासत का अपमान करते हैं, जो बाबा साहेब की मूर्तियां तोड़ते हैं, ऐसे लोगों से भी कांग्रेस को सहानुभूति है।

इसके अलावा कांग्रेस पार्टी के घोषणापत्र जारी करने को लेकर प्रधानमंत्री ने निशाना साधा और उसमें शामिल कई मुद्दों को सवालों के कटघरे में खड़ा कर दिया।

पीएम ने कहा, ''2004 के अपने ढकोसलापत्र में इन्होंने 2009 तक देश के हर घर तक बिजली पहुंचाने का वादा किया था। इसके लिए बाकायदा एक प्रोग्राम भी बनाया गया लेकिन काम पूरा नहीं हुआ।''

उन्होंने कहा कि साल 2009 में फिर इनका एक और ढकोसलापत्र आया। पहले के वादे का क्या हुआ ये नहीं बताया। फिर 2014 का चुनाव आया और फिर एक वादा कर डाला कि शहरों में 100 प्रतिशत बिजली देंगे और गांवों में बिजली 90 प्रतिशत तक पहुंचाएंगे।

प्रधानमंत्री ने आरोप लगाया कि इनके झूठे वादों की स्थिति ये थी कि अरुणाचल और नॉर्थ ईस्ट के 1800 से अधिक गांव और देश के 3 करोड़ से अधिक परिवार 2014 में अंधेरे में जीने के लिए मजबूर थे। आपके इस चौकीदार ने हज़ार दिन के भीतर बिजली पहुंचाने का लक्ष्य रखा और हज़ार दिन के भीतर वादे को पूरा किया।

पीएम मोदी ने आगे कहा, ''इतना ही नहीं कांग्रेस ने देश में अलगाववाद बढ़ाने के लिए, हिंसा को प्रोत्साहन देने के लिए, देश को गाली देने वालों को प्रोत्साहन देने की भी एक योजना बनाई।''

उन्होंने कहा कि एक तरफ आपका ये चौकीदार, देश के वीर सपूत, देश को तोड़ने वालों के खिलाफ खड़ा हो रहा है। देश के भीतर हो या देश के बाहर, भारत मां पर हमला करने वालों के खिलाफ आपका ये चौकीदार कार्रवाई कर रहा है।

पीएम ने ललकारते हुए बोला कि आप आश्वस्त रहिए, जब तक ये चौकीदार है, तब तक देश को तोड़ने के बारे में सोचने वालों को सौ बार सोचना पड़ेगा। हम एक भारत, श्रेष्ठ भारत के लिए जीने-मरने वाले लोग हैं। यही अरुणाचल के आप सभी साथियों की प्रेरणा है, यही 130 करोड़ भारतवासियों का प्रण है।

कांग्रेस पार्टी पर सवाल उठाते हुए उन्होंने बोला कि वहीं दूसरी तरफ विचारों से दीवालिया हो चुकी कांग्रेस पार्टी, सत्ता में वापसी की छटपटाहट में आज इस स्तर पर पहुंच गई है। क्या ये देश में अलगाव की आवाज़ को मजबूत करने की कोशिश नहीं है? कांग्रेस का हाथ देश के साथ है या देश के द्रोहियों के साथ।

पीएम मोदी ने पूछा कि कांग्रेस के इतने प्रधानमंत्री हुए, वो कितनी बार अरुणाचल आए? आपने कांग्रेस को इतने सालों तक प्यार दिया, क्या उन्होंने आपके प्यार को सम्मान दिया।

प्रधानमंत्री ने कहा कि यही कांग्रेस की हकीकत है, यही नामदारों की असलियत है। उनके लिए वोटबैंक ही सबकुछ है। यही कारण है कि इतने वर्षों तक अरुणाचल और नॉर्थ ईस्ट को उन्होंने भुला दिया था।

आगे उन्होंने बोला कि उनके ‘ढकोसला पत्र’ में देखिए, नॉर्थ ईस्ट कहां होता है? उनके बजट उठाकर देख लीजिए, नॉर्थ ईस्ट को वो कितना स्पेस देते थे, आपकी आवश्यकताओं को कितना सम्मान देते थे? ये कांग्रेस ही है जिसने नॉर्थ ईस्ट को ना तो दिल में जगह दी और ना ही दिल्ली में।

पीएम मोदी ने कहा कि दूसरी तरफ भाजपा है, जिसने नॉर्थ ईस्ट के दिल को भी जोड़ा और दिल्ली को आपके पास लेकर चली आई। ये अटल जी ही थे, जिन्होंने पहली बार नॉर्थ ईस्ट के विकास के लिए अलग मंत्रालय बनाया। अटल जी ने जो काम शुरु किया, उसको आपके इस चौकीदार की सरकार ने आगे बढ़ाया और हर 15 दिन में एक केंद्रीय मंत्री की ड्यूटी नॉर्थ ईस्ट में लगाई। बीते 5 वर्षों में, मैं खुद 30 से ज्यादा बार और सैकड़ों बार केंद्र सरकार के मंत्री इस पूरे क्षेत्र में आ चुके हैं।

इसके अलावा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि हम बार-बार आपके बीच आते हैं, क्योंकि हमें मां भारती के कोने-कोने से लगाव है, जन-जन से लगाव है। कांग्रेस सिर्फ वोट के लिए, सत्ता के लिए आपको याद करती है, क्योंकि वहां सिर्फ एक ही परिवार से लगाव है।

पीएम बोलें, ''कांग्रेस की ये नीति एक वोट बैंक बनाने की रही है। वो इसी वोटबैंक के लिए काम करती है, फिर चाहे उससे देश का नुकसान क्यों ना हो, उससे अलगाव क्यों ना पैदा हो।''

प्रधानमंत्री ने कहा कि आपके प्यार का ही परिणाम है कि आज हम अरुणाचल में गांव-गांव में सड़कें हों, नेशनल हाईवे हों, रेलवे हो या फिर एयरवे, कनेक्टिविटी को मजबूत करने में बहुत काम कर पाए हैं।

साथ ही उन्होंने बोला कि आपने साथ दिया, तभी हम पासीघाट और इटानगर को स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित करने का बीड़ा उठा पाए हैं। आपके मजबूत विश्वास का ही नतीजा है कि आज अरुणाचल में शिक्षा और स्वास्थ्य को लेकर अनेक संस्थान बन रहे हैं। आपके विश्वास का ही परिणाम है कि आज़ादी के 7 दशक बाद अरुणाचल के सभी गांवों तक बिजली पहुंचा पाए हैं, हर घर को रोशन कर पाए हैं। Transport से Transformation का हमारा संकल्प मजबूत है। अरुणाचल और नॉर्थ ईस्ट को ईस्ट एशिया का गेटवे बनाने का हमारा लक्ष्य है।

उन्होंने कहा कि इस बार का चुनाव वादों और इरादों के बीच का चुनाव है। ये संकल्प और साजिश के बीच का चुनाव है। ये भरोसे और भ्रष्टाचार के बीच का चुनाव है। ये अरुणाचल-नॉर्थ ईस्ट के विकास के लिए दिन रात एक करने वालों और दशकों तक अरुणाचल-नॉर्थ ईस्ट की उपेक्षा करने वालों का चुनाव है।

पीएम मोदी ने विपक्ष पर तंज कसते हुए कहा कि ये आपकी सांस्कृतिक विरासत, परंपरा, आपके गौरव की रक्षा करने वालों और आपके परिधानों, आपकी परंपराओं का मजाक उड़ाने वालों, आपका अपमान करने वालों के बीच का चुनाव है।

मोदी ने बोला कि एक तरफ वो दल जिन्होंने कभी देश की आशाओं-आकांक्षाओं को नहीं समझा, जिन्होंने देश पर राज करने की नीयत से सत्ता पर कब्जा जमाए रखा। जबकि आपका ये चौकीदार, आपके सेवक की तरह काम कर रहा है।

प्रधानमंत्री ने ये भी कहा कि हमने तो हर घर को टॉयलेट के सपने नहीं दिखाए थे, लेकिन आज हर घर में शौचालय के निर्माण का लक्ष्य प्राप्त करने की तरफ बढ़ रहे हैं। हमने गरीब बहनों की रसोई को धुएं से मुक्त करने का ढोल नहीं पीटा था, लेकिन आज 7 करोड़ से अधिक गरीब बहनों को मुफ्त गैस कनेक्शन मिल चुका है।

अपनी सरकार की उपलब्धियों को गिनाते हुए उन्होंने बोला कि हमने किसानों की आंखों में धूल झोंक कर, किसानों के नाम पर वोट मांगने का पाप नहीं किया था। फिर भी हमने किसानों के लिए बीज से बाजार तक व्यवस्थाएं बनाईं, तमाम सुधार किए औऱ पीएम किसान सम्मान योजना लागू की।

पीएम ने कहा कि हमने ये नहीं कहा था कि देश के 12 करोड़ किसान परिवारों को, अरुणाचल के 50 हज़ार से अधिक किसानों को, हर वर्ष हज़ारों करोड़ रुपए सीधे बैंक खाते में जमा करेंगे। लेकिन आज देश के 3 करोड़ से अधिक किसान परिवारों के खाते में पहली किश्त के पैसे जमा भी हो गए हैं।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हमने स्वास्थ्य के नाम पर बड़ी-बड़ी लुभावनी बातें नहीं की थीं, लेकिन फिर भी दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य योजना आयुष्मान भारत लागू की। आज इस योजना की वजह से अरुणाचल के 3 लाख गरीब परिवारों को हर वर्ष 5 लाख रुपए तक के मुफ्त इलाज की सुविधा उपलब्ध हुई है।

इसके साथ ही उन्होंने बोला कि स्वच्छता तो वो विषय था जिस पर संसद में कभी बड़ी-बड़ी चर्चाएं नहीं हुईं, कभी किसी मेनिफेस्टो का अहम मुद्दा नहीं बना लेकिन हमने स्वच्छ भारत बनाने की ठानी और देश के लोगों के सहयोग से आज स्वच्छ भारत के सच्चाई बन रहा है

आगे हमलावर होते हुए उन्होंने बोला कि एक तरफ इरादों वाली सरकार है और दूसरी तरफ सिर्फ और सिर्फ झूठे वादों वाले नामदार हैं। इन लोगों की तरह ही इनका घोषणापत्र भी भ्रष्ट होता है, बेईमान होता है, ढकोसलों से भरा होता है। इसलिए उसे घोषणापत्र नहीं, ढकोसला पत्र कहना चाहिए।

पीएम मोदी ने कहा कि सर्दी गर्मी, बारिश, कैसा भी मौसम हो, कैसी भी परिस्थिति हो, चौकीदार पहरा देते हुए ये भी कहता है- जागते रहो। इसलिए आपका ये चौकीदार भी आपको जागते रहो कह रहा है। इनके भ्रष्ट वायदों से आपको आगाह कर रहा है।

DO NOT MISS