Elections

पीएम मोदी ने कहा - 'पाक को लगता है कि मोदी चुनाव में वयस्त होगा कुछ करेगा नहीं तो उन्हें बता दूं मेरे लिए चुनाव प्राथमिकता नहीं है, देश प्राथमिकता है'

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 'मैं हूं चौकीदार' कार्यक्रम के तहत देश के कई हिस्सों में एक साथ जुड़कर जनता को संबोधित कर रहे हैं। वह तकनीक की मदद से देश में करीब 500 जगहों से जुड़े हुए हैं। इस दौरान पाकिस्तान को चेताते हुए पीएम मोदी ने कहा कि अगर उनको लगता है कि मोदी चुनाव में वयस्त होगा कुछ करेगा नहीं, मेरे लिए चुनाव प्राथमिकता नहीं है, देश प्राथमिकता है। 

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कार्यक्रम में सबोधन की शुरुआत करते हुए कहा कि वह एक चौकिदार के रूप में देश के लिए काम कर रहे हैं।  उन्होंने यहां विपक्ष पर हमला किया करते हुए कहा कुछ लोग सोचते हैं कि जो यूनिफॉर्म पहनने हैं और जिनके गले में सीटी होती है वही चौकीदार हैं लेकिन वास्तव में जो भी पूरी कर्मठता के साथ देश ही सेवा में लगा हुआ है वह सभी लोग चौकीदार हैं।

पीएम मोदी ने कहा मैं भी चौकीदार कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा 2014 में भाजपा ने मुझे दायित्व दिया उसके बाद मुझे देश के कौने कौने में जाने की नौबत आयी। तब मैंने देश के लोगों से कहा थी कि आप दिल्ली का दायित्व जो मुझे दे रहे हैं उसका मतलब है कि आप एक चौकीदार बैठा रहे हैं।

उन्होंने कहा मैंने तब कहा था कि मेरी ये कोशिश रहेगी कि मैं जनता के पैसे पर पंजा नहीं पड़ने दूंगा। एक चौकीदार के रूप में मैं अपनी जिम्मेदारी निभाऊंगा। 

पीएम मोदी ने कहा देश की जनता को राजा-महाराजा की ज़रूरत नहीं है देश की जनता को हुकुमदारों की ज़रूरत नहीं है देश की जनता चौकीदार को पसंद करती है।

पीएम मोदी ने कहा हर व्यक्ति के अपने सपने, अपनी इच्छाएं होती हैं। वो होनी भी चाहिए, लेकिन हम तय करें कि सबसे ऊपर देश हो। इससे हम सारी समस्याओं का समाधान निकाल लेंगे।

उन्होंने कहा बालाकोट मैंने नहीं किया, देश के जवानों ने किया है, हमारे सुरक्षा बलों ने किया है। इसलिए हम सबकी तरफ से उन्हें, सैल्यूट । जहां तक निर्णय का सवाल आता है तो आपने इस देश में बहुत सारे प्रधानमंत्री देखें हैं या उनके विषय में सुना है। 2014 में भी कईं लोग उस कतार में थे। आज लाइन थोड़ी लंबी हो गयी है ।

उन्होंने कहा अगर मोदी अपने राजनीतिक भविष्य का सोचता, तो वो मोदी नहीं होता। अगर यही राजनीतिक पैंतरेबाजी से देश चलाना होता, अपने राजनीतिक हित को लेकर फैसले करने होते, तो मोदी की देश को कोई जरूरत नहीं थी । 

पीएम मोदी ने कहा दुनिया का कोई नेता जब मुझसे हाथ मिलाता है या गले लगता है (गले पड़ता नहीं है), तो उसे मोदी नहीं दिखता, पूर्ण बहुमत वाली सरकार के माध्यम से सवा सौ करोड़ देशवासी उसे दिखते हैं, तब जाकर बराबरी वाली बात होती है। 

वहीं भगौड़ो के लेकर पूछे गए सवाल पर पीएम मोदी ने कहा जिन्होंने देश को लूटा है, उन्हें  पाई-पाई लौटानी पड़ेगी। 2014 से सारी चीजें इकट्ठा करना और समेटने का काम मैं कर रहा हूं। आपकी मदद से जेल के दरवाजे तक तो मैं इन लोगों को ले गया, कुछ जमानत पर हैं और कुछ डेट मांग रहे हैं।

पीएम मोदी ने आगे कहा कुछ लोग विदेश की अदालतों में कहते हैं कि भारत की जेलों की स्थिति अच्छी नहीं है। अब इनको कोई महल में थोड़ी रखेगा। अंग्रेजों ने गांधी जी को जिस जेल में रखा था, मैं उनको उससे अच्छी जेल नहीं दे सकता । हमें टैक्सपेयर्स का गौरव करना चाहिए। मेरे लिए टैक्सपेयर्स देश के गरीबों की सेवा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। और जो गलत कर रहा है वो किसी भी हालत में बचना नहीं चाहिए ।

उन्होंने कहा जो झूठ बोलता है तो उसके लिए पहली शर्त होती है कि उसकी मेमोरी पावर तेज होनी चाहिए। लेकिन वो एक दिन एक आंकड़ा बोले, दिन अगले दिन दूसरा, उनकी झूठ की फैक्ट्री उन्हें पकड़ा देती है की इस झूठ को चलाइये। लेकिन मेमोरी पावर कम होने के कारण वो पकडे जाते हैं।

पीएम मोदी ने कहा कुछ लोग ये मान कर बैठे हैं की ये देश, ये सरकार उनकी पैतृक संपत्ति है। इसलिए उनको ये हज़म नहीं होता की एक चायवाला प्रधानमंत्री बन गया । 

पीएम मोदी ने आगे कहा उनके झूठ की उम्र भी ज्यादा नहीं, कुछ झूठ की तो ‘बालमौत’ हो जाती है, लेकिन फिर भी उसे खींचते रहते हैं। इस झूठ का जवाब आसान है। सिर्फ सच बताते चलिए। सच की ताकत इतनी होती है कि झूठ टिक नहीं पाएगा।

DO NOT MISS