Elections

EXCLUSIVE: महाराष्ट्र में आंदोलन करने वाले किसान नहीं, बल्कि आदिवासी थे: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस

Written By Amit Bajpayee | Mumbai | Published:

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने रिपब्लिक भारत से एक्सक्लूसिव बातचीत में 2019 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर पर विस्तार से बात की। रिपब्लिक मीडिया नेटवर्क के एडिटर-इन-चीफ अरनब गोस्वामी ने 'पूछता है भारत' कार्यक्रम में शरीक हुए महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस से कई सुलगते हुए सवाल पूछे, जिनका उन्होंने बड़ी बेबाकी से जवाब भी दिया।


पिछले साल मार्च 2018 में महाराष्ट्र में किसान आंदोलन ने जोर पकड़ा था इस मुद्दे पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने दो टूक शब्दों में कहा कि 'महाराष्ट्र में आंदोलन करने वाले किसान नहीं, बल्कि आदिवासी थे'


देवेंद्र फडणवीस ने कहा उन आदिवासियों को जंगल में अपने जमिन का अधिकार चाहिए था। हमने 1 लाख लोगों को उनका अधिकार दिया।उन्होंने कहा आंदोलन में जितने भी आदिवासी आये हमने उनसे बात की, हमने उनके बात को मान्य किया।  

देवेंद्र फडणवीस ने कहा आंदोलन में आये लोगों में किसी ने नहीं कहा कि वह किसान हैं। वह यह मांग लेकर आये थे कि ट्राइबल को जंगल में जमीन का अधिकार मिलना चाहिए। यह बिलकुल सही बात थी इसलिए में उनलोगों को मिला और  केबल मिला नहीं बल्कि केवल 6 महिने में हमने 1 लाख ट्राइवल को उनके जमिन का अधिकार दिया। आज महाराष्ट्र ट्राइवल को उनके अधिकार देने में नंबर वन पर है। 

बता दें किसान और आदिवासी लोक संघर्ष समिति के बैनर तले करीब 20 हजार किसानों ने अपनी मांगों को लेकर ठाणे से प्रदर्शन शुरू किया था।  किसान मुख्य रूप से लोड शेडिंग की समस्या, वनाधिकार कानून लागू करने, सूखे से राहत, न्यूनतन समर्थन मूल्य, स्वामीनाथन रिपोर्ट लागू जैसी मांगों को लेकर सड़क पर प्रदर्शन कर रहे हैं। इस बीच राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने किसानों के प्रतिनिधिमंडल को बातचीत के लिए बुलाया था।


 

DO NOT MISS