Elections

बिहार में रविवार को होगा महागठबंधन के उम्मीदवारों के नाम का ऐलान

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

सत्ता का महामुकाबला यानी लोकसभा चुनाव 2019 के लिए औपचारिक बिगुल बज चुका है। ऐसे में देशभर की सभी राजनीतिक दलों ने और सियासतदानों ने अपनी-अपनी कमर कस ली है। और अपनी पूरी ताकत झोंकने का मूड बना लिया है। बिहार में विपक्षी महागठबंधन रविवार को राज्य की 40 लोकसभा सीटों के लिए अपने उम्मीदवारों की घोषणा करेगा।

बिहार प्रदेश कांग्रेस कमेटी की चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष अखिलेश प्रसाद सिंह ने हालांकि यह बताने से परहेज किया कि महागठबंधन में शामिल कौन घटक दल कितनी सीटों पर चुनाव लड़ेगा।

उन्होंने कहा कि नयी दिल्ली में हमारी बातचीत के दौरान रालोसपा प्रमुख उपेंद्र कुशवाहा और हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (HAM) सेक्युलर के प्रमुख जीतन राम मांझी जैसे सहयोगियों के अलावा कांग्रेस के शीर्ष नेता भी मौजूद थे।

उन्होंने सभी चीजों के रास्ते पर आने की बात करते हुए कहा कि 17 मार्च को उम्मीदवारों की घोषणा की जाएगी।

जीतन राम मांझी के साथ एक ही उड़ान से पटना पहुंचे कांग्रेस नेता अखिलेश ने उन रिपोर्ट को खारिज कर दिया कि हम प्रमुख "सम्मानजनक" सीटें नहीं मिलने के कारण निर्धारित तिथि से एक दिन पहले ही पटना लौट आए थे। 

ऐसी अटकलें लगायी जा रही थीं कि मांझी को मनाने के लिए अखिलेश को कांग्रेस आलाकमान द्वारा पटना भेजा गया है।

अखिलेश प्रसाद सिंह ने कहा “कोई भी नाराज़ नहीं है। सभी का ख्याल रखा जा रहा है और आपसी समझ से चीजों का निपटारा किया जा रहा है। महागठबंधन के सभी घटक एक टीम के रूप में लड़ेंगे और हम राज्य की सभी 40 सीटें जीतेंगे।

उन्होंने उन खबरों को भी खारिज कर दिया कि बॉलीवुड के पूर्व सेट डिजाइनर मुकेश साहनी सीटों के बंटवारे में कथित तौर पर दरकिनार किए जाने से नाखुश थे।

इस बीच जब जीतन राम मांझी से मीडिया ने पूछा तो उन्होंने मुस्कुराते हुए कहा कि कोई नाराजगी या असंतोष नहीं है। हम भाजपा नीत राजग की हार सुनिश्चित करने के लिए मिलकर काम करेंगे।

इसे भी पढ़ें - R. भारत के खुलासे के बाद कांग्रेस पर बरसी स्मृति ईरानी, कहा ''जीजा जी तो करप्शन का मुखौटा थे असली चेहरा तो राहुल गांधी हैं''

ऐसे में हर कोई टकटकी लगाकर इस इंतजार में बैठा है कि आखिर कांग्रेस, आरजेडी, RLSP और HAM से बना बिहार का महागठबंधन किन-किन उम्मीदवारों पर भरोसा जताता है। देशभर में कांग्रेस पार्टी को एक के बाद एक तगड़े झटके लग रहे हैं। ऐसे में बिहार में सीट बंटवारे में किसी पार्टी की नाराजगी मुश्किल बन सकती है।

DO NOT MISS