Elections

EXCLUSIVE: जेल से छूटने के बाद प्रियंका शर्मा ने कहा- 'बेल के बाद भी मुझे जेल में रखा गया, जबरन लिखवाया गया माफीनामा'

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की विरूपित तस्वीर सोशल मीडिया पर कथित रूप से साझा करने के मामले में सुप्रीम कोर्ट की कड़ी फटकार के बाद राज्य सरकार ने भाजपा युवा मोर्चा की नेता प्रियंका शर्मा को रिहा कर दिया है। 

अपनी रिहाई के बाद रिपब्लिक भारत से एक्सक्लूसिव बातचीत करते हुए प्रियंका ने पुलिस पर जबरदस्ती माफी मांगवाने का दवाब बनाने का आरोप लगाया।

उन्होंने कहा, "मुझे जबरदस्ती माफी मांगने के लिए मजबूर किया गया था। यहां तक कि मुझे अपने वकीलों और परिवार के सदस्यों से बात करने की अनुमति नहीं थी। मुझे जमानत दिए जाने के बाद 18 घंटे तक जेल में रखा। पश्चिम बंगाल में गुंडाराज है। मुझे एक मीम के लिए गिरफ्तार किया गया था।  क्योंकि मैं भाजपा से हूं और मैं एक महिला हूं, लेकिन अन्य भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ शारीरिक हिंसा की जा रही है।"

प्रियंका ने आगे पुलिस पर ममता सरकार के इशारों पर काम करने का आरोप लगाते हुए कहा कि पुलिस सिर्फ दीदी को खुश करना चाहती है इसलिए उन्होंने मुझे गिरफ्तार किया। मैं ममता दीदी की सरकार के खिलाफ लड़ना जारी रखूंगी।"

इससे पहले नई दिल्ली में भाजपा कार्यालय में एक संवाददाता सम्मेलन में शर्मा ने कहा, ‘‘मुझे कोई पछतावा नहीं है। मैंने ऐसा कुछ नहीं किया है जिसके लिये मैं माफी मांगूं।’’  उच्चतम न्यायालय के आदेश के बाद सुबह नौ बजकर 40 मिनट पर यहां की अलीपुर जेल से उसे रिहा किया गया।

भाजपा कार्यकर्ता ने आरोप लगाया कि जेल में उसका उत्पीड़न हुआ और उन्हें प्रताड़ित किया गया। उस कहा, ‘‘जेल में मुझे प्रताड़ित किया गया। यहां तक कि जेलर ने भी कल मुझे धक्का दिया था। मैंने उनसे कहा कि मैं कोई अपराधी नहीं हूं कि आप इस तरह से मुझे जेल कक्ष के अंदर धक्का दे रहे हैं। उन्होंने बहुत खराब बर्ताव किया। अंदर का माहौल बहुत खराब था।’’ 

उसकी रिहाई के वक्त दक्षिण कोलकाता के इस जेल के बाहर स्थानीय भाजपा नेता और उनकी मां भी मौजूद थीं।

उल्लेखनीय है कि न्यायालय ने प्रियंका शर्मा को मंगलवार को जमानत पर तत्काल रिहा करने का आदेश दिया था और कार्यकर्ता से कहा था कि वह जेल से रिहाई के वक्त बनर्जी की विरूपित तस्वीर कथित रूप से साझा करने के लिये लिखित में माफी मांगें। 

तृणमूल कांग्रेस के नेता विभास हाजरा की शिकायत पर भाजपा कार्यकर्ता प्रियंका शर्मा को पश्चिम बंगाल पुलिस ने 10 मई को भारतीय दंड संहिता की धारा 500 (मानहानि) और सूचना प्रौद्योगिकी कानून के तहत गिरफ्तार किया था। हावड़ा की स्थानीय अदालत ने प्रियंका को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था।

भाजपा युवा मोर्चा की नेता प्रियंका शर्मा ने फेसबुक पर एक ऐसी फोटो कथित रूप से साझा की थी जिसमें न्यूयॉर्क में ‘मेट गाला’ समारोह के दौरान ली गई अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा की तस्वीर पर फोटोशॉप के जरिए ममता का चेहरा लगाया गया था।

DO NOT MISS