Elections

कांग्रेस ने 'भारत माता की जय' को बताया पार्टी का नारा, सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा- यह सबसे 'हास्यास्पद' बयान

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

लोकसभा चुनाव को अब महज़ चंद दिन बचे हैं, ऐसे में वोटरों को रिझाने के लिए कांग्रेस नया नेरेटिव तैयार करती हुई दिखाई दे रही है और साथ ही भारतीय जनता पार्टी पर 'देश भक्त का कार्ड' खेलने को लेकर निशाना भी साधा है। पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता शक्ति सिंह गोहिल ने गुजरात के गांधीनगर में अपनी पार्टी के प्रमुख राहुल गांधी की मौजूदगी में एक विशाल सभा को संबोधित किया, जिसमें उन्होंने स्वतंत्रता आंदोलन में भाजपा की भूमिका को निशाना साधा और याद दिलाया कि वो कांग्रेस थी जिसने 'भारत माता की जय' का नारा लगाया था।  

उन्होंने कहा, "कांग्रेस पार्टी ने स्वतंत्रता संग्राम लड़ा। हमने अंग्रेजों के खिलाफ लड़ाई लड़ी। उनके परिवार में कोई नहीं था, जिनके नाम का वे उपयोग भी कर सकते हैं और इस प्रकार वे आज तक कांग्रेस नेताओं के नाम का उपयोग कर रहे हैं। और साथ ही वे हमारे नारों का भी इस्तेमाल करते हैं। जब हम आजादी की लड़ाई लड़ रहे थे, तब कांग्रेस ने पहली बार भारत माता की जय का नारा लगाया था। इस प्रकार यह कांग्रेस का नारा था। इसलिए हम भारत माता की जय भी कहेंगे। भारत माता की जय"

हालांकि कांग्रेस नेता के इस बयान पर बीजेपी ने प्रतिक्रिया देते हुए इस हास्यास्पद कहा. रिपब्लिक टीवी से बात करते हुए बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने कहा कि 'भारत माता की जय नारा' का दावा करने वाली कांग्रेस की ये सबसे हास्यास्पद बात है।

उन्होंने कहा कि  "हर बार वेप्रोपेगेंडा और मुख्य मुद्दों को खो देते हैं, वे इस तरह से बोलना शुरू करते हैं। इस बार उन्होंने यह भी कहना शुरू कर दिया कि वह(राहुल गांधी) जनेऊ धारी हैं और वह एक हिंदू हैं। अब, यह कहना कि भारत माता की जय नारा एक कांग्रेसी नारा है' यह सबसे हास्यास्पद बात है। 'जय हिंद' जो इंदिरा गांधी इस्तेमाल करती थी, वह आईएनए का नारा था। सुभाष चंद्र बोस द्वारा इस नारे को गढ़ा गया था। यह ठीक उसी समय से एक राष्ट्रीय नारा रहा है जब बांकी चंद्र चट्टोपाध्याय ने वंदे मातरम कहा था।
 

बता दें, इससे पहले प्रिंयका गांधी ने गांधीनगर में सभा को संबोधित करते हुए कहा था कि कांग्रेस कार्यकर्ताओं का आह्वान किया कि असल मुद्दों से ध्यान भटकाने की लगातार कोशिश की जाएगी, लेकिन वे रोजगार, किसानों और महिला सुरक्षा के मुद्दों को लेकर सवाल पूछते रहें. 

DO NOT MISS