Elections

कांग्रेस ने घोषणापत्र में पूर्ण राज्य की मांग पर दिल्ली के साथ किया सौतेला व्यवहार: आप

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

आप ने कांग्रेस के घोषणापत्र में दिल्ली के पूर्ण राज्य की मांग पर सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाते हुये कहा कि भाजपा की तर्ज पर कांग्रेस ने भी दिल्ली की जनता के साथ धोखा किया है। 

आप की दिल्ली इकाई के संयोजक गोपाल राय ने मंगलवार को कहा कि कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव के लिये अपने घोषणापत्र में दिल्ली की जनता के साथ सौतेला रवैया अपनाते हुये पुदुचेरी के लिए तो पूर्ण राज्य का दर्जा देने की बात कही है, लेकिन दिल्ली की मांग से खुद को दूर कर लिया।


राय ने कहा, ‘‘पूर्व में कांग्रेस के नेताओं ने समय-समय पर दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने की बात कही है। जनवरी 2015 में दिल्ली विधानसभा चुनाव के समय भी कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में दिल्ली के लिए पूर्ण राज्य की बात कही थी।’’ 

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के घोषणापत्र से दिल्ली के लिए पूर्ण राज्य का मुद्दा हटाना दिल्ली वालों के लिए दुख और आश्चर्य की बात है। उन्होंने कांग्रेस से पूछा कि वह दिल्ली की जनता का साथ देने के बजाय पूर्ण राज्य के मुद्दे से भाग क्यों रही है? 

राय ने कांग्रेस से अपील की है कि पार्टी अपने इस घोषणापत्र पर पुनर्विचार कर पुदुचेरी की तर्ज पर दिल्ली के लिये भी पूर्ण राज्य की मांग को अपने घोषणापत्र का हिस्सा बनाये। 

दिल्ली में आम आदमी पार्टी के साथ लोकसभा चुनाव के लिए गठबंधन के बारे में सवाल को टालते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को कहा कि पूरे देश में गठबंधनों को लेकर उनकी पार्टी का रुख लचीला है।

गांधी ने दिल्ली में आप के साथ गठबंधन के सवाल पर सीधे उत्तर नहीं देते हुए कहा, ‘‘इस पर कोई असमंजस नहीं है। स्थिति बहुत स्पष्ट है। देश भर में हमने गठबंधन किए हैं। हमारे दरवाजे गठबंधन के लिए खुले हुए हैं। इस मुद्दे पर हमारा रुख लचीला है।’’

इससे पहले कांग्रेस अध्यक्ष ने मंगलवार को सुबह पार्टी की दिल्ली इकाई की अध्यक्ष शीला दीक्षित और राज्य के पार्टी प्रभारी पीसी चाको के साथ एक बैठक की।

गौरतलब है कि आप के साथ गठबंधन को लेकर अब तक दिल्ली कांग्रेस के नेताओं में भिन्न भिन्न राय सामने आई है।

पिछले दिनों कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के साथ बैठक के दौरान डीपीसीसी अध्यक्ष शीला दीक्षित और तीनों कार्यकारी अध्यक्षों राजेश लिलोठिया, देवेंद्र यादव और हारून यूसुफ तथा पूर्व अध्यक्ष जेपी अग्रवाल ने गठबंधन का विरोध किया तो अजय माकन, सुभाष चोपड़ा, अरविंदर सिंह लवली तथा कुछ अन्य नेताओं ने तालमेल के पक्ष में राय जाहिर की।
 

DO NOT MISS