Elections

राजस्थान में ताजपोशी का ऐलान, गहलोत को प्रदेश की कमान.. डिप्टी CM के लिए पायलट का नाम

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

राजस्थान में विधानसभा चुनाव के नतीजों के बाद अब CM की कुर्सी को लेकर भी फाइनल फैसला हो चुका है. कांग्रेस ने राजस्थान में ताजपोशी के लिए अशोक गहलोत के नाम की घोषणा कर दी है. हालांकि इन सबके बीच प्रदेश कांग्रेस कमेटी के चीफ सचिन पायलट को दरकिनार नहीं किया जा सका. उन्हें भी बतौर उपमुख्यमंत्री (डिप्टी CM) प्रदेश का जिम्मा सौंपा गया है.

कांग्रेस को 5 साल बाद यहां सरकार बनाने का मौका मिला है. तो वहीं मुख्यमंत्री की कुर्सी को लेकर काफी देर तक सस्पेंस बना रहा प्रदेश में दोनों ही खेमे के समर्थक अपने-अपने नेता को मुख्यमंत्री बनाने के लिए ईंट से ईंट बजा देने की चेतावनी सड़कों पर उतर कर दे दी थी. हालांकि मसले को सुलझाने के लिए कांग्रेस ने एक बेहतर उपाय खोज निकाला और गहलोत को प्रदेश की कमान और डिप्टी CM के लिए सचि पायलट के नाम का ऐलान कर दिया.

सीएम की कुर्सी के लिए फिलहाल कांग्रेस आलाकमान ने कोई घोषणा कर दी है. गहलोत के नाम पर सीएम की कुर्सी के लिए मुहर लग चुकी है. हालांकि इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि राजस्थान में सीएम की कुर्सी पर फैसला कर पाना कांग्रेस पार्टी के लिए किसी बड़ी चुनौती से कम कतई नहीं रहा तभी तो शायद इसका फैसला करने में तीन दिनों का वक्त लग गया.

दिल्ली में चला बैठक का दौर...

मुख्यमंत्री पद के लिए नाम की घोषणा कर पाना पार्टी आलाकमान के लिए आसान नहीं था. इसी लिए मंगलवार को आए नतीजों के बाद बुधवार का पूरा दिन राजस्थान की राजधानी जयपुर में बैठकों सिलसिला चलता रहा लेकिन फैसला नहीं हो पाया. बुधवार को जब जयपुर में मसला नहीं सुलझ पाया तब बुधवार की रात राहुल गांधी ने दोनों प्रबल दावेदार अशोक गहलोत और सचिन पायलट को बातचीत के लिए दिल्ली बुलाया.

बुधवार की रात पार्टी के दोनों ही कद्दावर नेता दिल्ली के लिए रवाना हो गए. लोगों को इस बात की उम्मीद थी कि गुरुवार को दोपहर 12 बजे के बाद मुख्यमंत्री के नाम पर मुहर लग जाएगी. हालांकि ऐसा नहीं हुआ. सुबह से रात तक बैठकों को दौर जारी रहा. 

फैसले को लेकर भारी मुश्किलों से गुजर रहे राहुल गांधी के आवास पर कभी सोनिया गांधी पहुंचीं तो कभी प्रियंका वाड्रा पहुंचकर बैठक में शामिल हुईं. लेकिन इन सभी बैठकों के दौर के बावजूद गुरुवार को भी नाम सामने नहीं आ पाया और राजधानी दिल्ली में बैठक का सिलसिला शुक्रवार दोपहर तक जारी रहा.

इसके बाद शुक्रवार की दोपहर राहुल गांधी के आवास से सचिन पायलट रवाना हो गए. फिर राहुल ने एक ट्वीट किया. ट्वीट के जरिए उन्होंने इस बात का संकेत दे दिया कि नाम साफ हो चुका है. इस ट्वीट में राहुल ने राजस्थान में कांग्रेस पार्टी की एकता को जाहिर करने की कोशिश की. 

इसके कुछ देर बाद ही कांग्रेस पार्टी ने इस फैसले का औपचारिक ऐलान कर दिया कि अशोक गहलोत को राज्य का मुख्यमंत्री और सचिन पायलट को उपमुख्यमंत्री बनाया जाना निर्धारित किया गया है.

DO NOT MISS