Elections

राजस्थान : कांग्रेस ने जारी किया घोषणापत्र, 'किसानों को कर्ज माफी और बच्चियों को मुफ्त शिक्षा का वादा'

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

राजस्थान विधानसभा चुनाव में मतदान के लिए काउंट डाउन शुरू हो गया है. सभी पार्टियां अपना जोर लगाने में कोई कसर नहीं छोड़ रही हैं. राजनीतिक सिंहासन को पाने के लिए जीत की कयास लगाए हर कोई अपना दांवपेंच आजमा रहा है. इस बीच कांग्रेस पार्टी ने राजस्थान के लिए अपनी घोषणापत्र जारी कर दिया है.

कांग्रेस ने गुरूवार को कहा कि राजस्थान में सत्ता में आने पर वो किसानों का कर्ज माफ करेगी, बुजुर्ग किसानों को पेंशन देगी, बेरोजगार युवाओं को 3500 रुपए तक का मासिक भत्ता देगी और बच्चियों की शिक्षा पूरी तरह नि:शुल्क कर देगी... कांग्रेस ने आगामी राजस्थान विधानसभा चुनाव के लिए अपने ‘जन घोषणापत्र’ में ये वादे किए हैं.

राजस्थान की राजधानी जयपुर में कांग्रेस ने अपनी घोषणापत्र गुरुवार को जारी किया. पार्टी का कहना है कि ये घोषणापत्र राज्य की जनता की जनभावनाओं, उनकी अपेक्षाओं और आंकाक्षाओं को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है. इसके लिए पार्टी को ऑफलाइन व ऑनलाइन लगभग दो लाख सुझाव मिले थे. इस दौरान कांग्रेस ने ये भी कहा कि ये 'जन घोषणापत्र' कोई दस्तावेज नहीं, हमारी प्रतिबद्धता है. 

  • किसानों को कर्जमाफी...

कांग्रेस ने अपने घोषणापत्र में किसानों पर खास फोकस किया है. वैसे भी हाल ही में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने इस बात का ऐलान किया था कि अग राजस्थान में कांग्रेस की सरकार  बनती है तो उनकी सरकार महज 10 दिनों में किसानों के कर्ज माफ कर देगी. ऐसे में कांग्रेस ने कर्जमाफी के मुद्दे को अपने ‘जन घोषणापत्र’ में भी शामिल किया है.

  • बेरोजगारों को मिलेगा भत्ता...

कांग्रेस पार्टी ने राजस्थान के बेरोजगार युवाओं के मुद्दे को भी घोषणापत्र में शामिल किया है. और  बेरोजगार युवाओं को 3500 रुपए तक का भत्ता देने की बात कही है. हालांकि भारतीय जनता पार्टी ने अपने घोषणापत्र में बेरोजगार युवाओं को 5000 रुपए मासिक भत्ता देने का ऐलान किया था.

  • बच्चियों को मलेगी मुफ्त शिक्षा...

पार्टी ने बच्चियों की सारी शिक्षा मुफ्त कराने का वादा किया है. जिसमें कहा गया है कि बच्चियों की हर तरह की पढ़ाई फ्री कर दी जाएगी.

इसके अलावा घोषणापत्र में राइट टु हेल्थ के प्रस्ताव शामिल हैं. साथ ही इसमें बुजुर्ग किसानों को पेंशन की बात कही गई है और असंगठित मजदूरों के लिए बोर्ड बनाएगी.

पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट ने इस अवसर पर कहा कि ये जन घोषणापत्र कोई दस्तावेज नहीं बल्कि पार्टी की जनता के प्रति प्रतिबद्धता है. पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने इस अवसर पर कहा कि पार्टी के घोषणापत्र में जन भावनाओं को शामिल करने का यह ‘राहुल मॉडल’ है और घोषणापत्र के लिए लगभग दो लाख सुझाव मिले.

गहलोत ने आरोप लगाया कि वसुंधरा राजे सरकार ने पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार की अनेक जनकल्याणकारी योजनाएं बंद कर दीं.

पार्टी के वरिष्ठ नेताओं ने राज्य के सभी सातों संभाग में इस घोषणापत्र को जारी किया. इस मौके पर  घोषणापत्र समिति के अध्यक्ष हरीश चौधरी और पार्टी के प्रदेश प्रभारी अविनाश पांडे भी मौजूद थे. फिलहाल ये देखने वाली बात होगी कि कांग्रेस का ये घोषणापत्र चुनाव के लिए कितना कारगर साबित होता है.

DO NOT MISS