Elections

CM योगी की अपील, 'हैदराबाद को ‘भाग्यनगर’ में बदलने के लिए BJP को वोट दें'

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

उत्तर प्रदेश में मुगलसराय, इलाहाबाद और फैजाबाद के नाम बदलने के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हैदराबाद में बड़ा ऐलान किया है. तेलंगाना के मतदाताओ से सीएम योगी ने अपील की है कि अगर हैदराबाद को ‘भाग्यनगर’ में तब्दील करना चाहते हैं तो आगामी विधानसभा चुनावों में राज्य में भाजपा को सत्ता में लाएं.

गोशामहल विधानसभा क्षेत्र में भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार टी राजा सिंह लोध के समर्थन में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए आदित्यनाथ ने कहा कि वो विशेष रूप से उनके लिए प्रचार करने आए हैं क्योंकि वो टी राजा सिंह लोध हैदराबाद का नाम भाग्यनगर करने के लिए काम कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि बीजेपी ने सुशासन और विकास के माध्यम से भारत को ‘राम राज्य’ के मॉडल के मुताबिक बनाने की जिम्मेदारी उठाई है और उस मिशन में तेलंगाना को भी भूमिका निभानी चाहिए.

आदित्यनाथ ने एक सभा को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘अगर हैदराबाद को भाग्यनगर बनाना है तो मैं आपसे आग्रह करता हूं कि सरकार बनाने में (तेलंगाना में) भाजपा की मदद करें.’’

योगी सरकार ने पिछले महीने फैजाबाद का नाम बदलकर अयोध्या और इलाहाबाद का नाम बदलकर प्रयागराज कर दिया था. इससे पहले मुगलसराय का भी नाम बदल कर पं. दीन दयाल उपाध्याय रख दिया था. बीजेपी उम्मीदवार सिंह ने पहले कई मौके पर कहा था कि अगर बीजेपी सत्ता में आती है तो उसका उद्देश्य राज्य में हैदराबाद और अन्य शहरों का नाम महान हस्तियों के नाम पर रखने का है.

उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस के शासनकाल में पाकिस्तान प्रायोजित आतंकवादियों को बिरयानी खिलाई जाती थी और अब बीजेपी सरकार के शासनकाल में हर आतंकवादी से कड़ाई से निपटा जाता है.

जानकारी के मुताबिक बीजेपी के राजा सिंह ने ये भी कहा था, "इससे पहले हैदराबाद का नाम भाग्यनगर था और 1590 में मुहम्मद कुली कुतुब शाह ने हैदराबाद आकर भाग्यनगर को हैदराबाद में बदल दिया था. हैदराबाद का नाम बदलने के लिए उस वक्त कई हिंदुओं पर हमला किया गया था और कई मंदिर नष्ट हो गए थे."

साथ ही उन्होंने कहा था कि तेलंगाना में बीजेपी बहुमत से जीत जाएगी तो हमारा पहला उद्देश्य राज्य का विकास और दूसरा उद्देश्य हैदराबाद को भाग्यनगर के रूप में नामित करेगा होगा. हम सिकंदराबाद और करीमनगर के नाम भी बदल देंगे.

गौरतलब है कि आगामी 7 दिसंबर को राजस्थान और तेलंगाना में विधानसभा चुनाव के लिए वोटिंग होनी है. जिसके नतीजे 11 दिसंबर को आएंगे.

(इनपुट : भाषा)

DO NOT MISS