Elections

कोलकाता में रोड शो के दौरान हिंसा: अमित शाह बोले, 'हिंसा रोकने के लिए TMC को सत्ता से बाहर करना जरूरी'

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

यूं तो इन दिनों दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र में सबसे पवित्र त्यौहार चल रहा है। लेकिन पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में एक बार फिर हिंसा तांडव देखने को मिला। जहां भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो के दौरान भारी हिंसा देखने को मिली। जिसके बाद बंगाल सहित देश की राजनीति में भूचाल आ गया और बीजेपी ने इस हिंसा की कड़े शब्दों में निंदा की है।

खुद अमित शाह ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि आज जिस तरह से कोलकाता में बीजेपी के रोड शो में नागरिकों का जनसैलाब उमड़ा, इसने टीएमसी के गुंडों ने निराश किया और इसलिए उस पर हमला किया। मैं बीजेपी कार्यकर्ताओं को बधाई देना चाहूंगा, क्योंकि इस तरह की अराजकता के बाद भी रोड शो जारी रहता है और नियोजित स्थान और समय पर संपन्न होता है।

उन्होंने आगे कहा कि मैं ममता बनर्जी की पार्टी की हिंसा की निंदा करता हूं। मैं अंतिम चरण में अपने वोटों से इस हिंसा पर प्रतिक्रिया देने के लिए बंगाल के लोगों से अपील करना चाहूंगा। राज्य में हिंसा को समाप्त करने के लिए एक बार टीएमसी को बाहर करना आवश्यक है।

यहीं नहीं बीजेपी की आला नेताओं ने भी इस हमले की निंदा की। केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने ट्वीट करते हुए कहा कि कोलकाता में बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के रोड शो पर टीएमसी समर्थकों द्वारा किए गए हमले की मैं निंदा करता हूं। लोकतंत्र में विचारों की लड़ाई विचारो से लड़नी चाहिए न की हिंसा से। बंगाल में कुछ दिनों से जो कुछ हो रहा है उससे साफ है कि टीएमसी हार के डर से बौखलाई है।

उत्तरखण्ड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि कोलकाता में भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री @AmitShah जी के रोड शो के दौरान TMC गुंडों द्वारा डंडे फेंकने,पोस्टर फाड़ने व उपद्रव की घटना लोकतंत्र में काला अध्याय है। बंगाल में TMC की जमीन खिसक गई है, ममता बनर्जी हार देखकर बुरी तरह बौखलाई हैं।  

बता दें, अधिकारियों ने बताया कि शहर के कुछ हिस्सों में हिंसा भड़क उठी जब विद्यासागर कॉलेज के भीतर से टीएमसी के कथित समर्थकों ने उनके काफिले पर पथराव किया जिससे दोनों पार्टियों के समर्थकों के बीच झड़प हुई। 

गुस्साए भाजपा समर्थकों ने भी उसी तरह प्रतिक्रिया दी और कॉलेज के प्रवेशद्वार के बाहर टीएमसी प्रतिद्वंद्वियों के साथ मारपीट करते नजर आए। 

बाहर खड़ी कई मोटरसाइकलों को आग के हवाले कर दिया गया। ईश्वर चंद्र विद्यासागर की आवक्ष प्रतिमा भी झड़प के दौरान तोड़ दी गई। पुलिसकर्मी पानी भरी बाल्टियों से आग बुझाने की कोशिश करते देखे गए। 

(इनपुट- भाषा से भी)

DO NOT MISS