Elections

महाराष्ट्र चुनाव: मुंबई में एक बार फिर बहुत कम मतदान दर्ज हुआ, शाम पांच बजे तक 44.74 फीसदी मतदान

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:


देश की आर्थिक राजधानी में एक बार फिर मतदान प्रतिशत बहुत खराब रहा जहां सोमवार को महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों के लिए केवल 63 प्रतिशत लोगों के वोट डालने का अनुमान है।

निर्वाचन आयोग के एक अधिकारी ने कहा, ‘‘मुंबई शहर और इसके उपनगरों में शाम पांच बजे तक 44.74 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया। हालांकि अंतिम मतदान प्रतिशत कम से कम नौ प्रतिशत तक बढ़ सकता है क्योंकि शाम छह बजे के बाद तक कई मतदान केंद्रों में लंबी कतारें थीं।’’

मुंबई में 36 विधानसभा क्षेत्र हैं और यह हमेशा से कम मतदान प्रतिशत के लिए जाना जाता है।

पिछले विधानसभा चुनाव में महानगर में 51.21 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया था।

बांद्रा और कोलाबा सबसे कम मतदान वाले स्थान रहे। बांद्रा में हिंदी फिल्मोद्योग की कई हस्तियों का बसेरा है। वहीं, कोलाबा भी महानगर के सबसे आलीशान इलाकों में गिना जाता है।

वरिष्ठ भाजपा नेता एवं मंत्री आशीष शेलार बांद्रा (पश्चिम) से कांग्रेस के आसिफ जकारिया के खिलाफ मैदान में हैं। कोलाबा से भाजपा के राहुल नरवेकर का मुकाबला कांग्रेस के अशोक जगताप से है।

यह भी धारणा है कि मुंबई में ज्यादा सीटें जीतने वाली पार्टी राज्य में सरकार बनाती है।

इसे ध्यान में रखते हुए भाजपा और शिवसेना ने महानगर में अपनी मौजूदगी बढ़ाने के समन्वित प्रयास किये हैं।

वहीं देश के 18 राज्यों की 51 विधानसभा सीटों और दो लोकसभा सीटों पर सोमवार को हुए उपचुनाव में करीब 57 फीसदी मतदान हुआ।

केरल में मतदाताओं ने भारी बारिश के बीच मतदान किया। वहां सड़कें जलमग्न हो गयी और कुछ मतदान केंद्रों में पानी भी घुस गया।

उत्तर प्रदेश की 11 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में सोमवार को शाम छह बजे मतदान समाप्त होने तक 47.05 प्रतिशत वोट पड़े। सहारनपुर जिले में गंगोह सीट पर सबसे अधिक 60.30 प्रतिशत जबकि लखनऊ (कैंट) पर सबसे कम 28.53 प्रतिशत मतदान हुआ।

निर्वाचन आयोग द्वारा रात सात बजे तक जारी आंकड़ों के अनुसार, 51 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव में करीब 56.84 फीसदी मतदान हुआ। मतदान शांतिपूर्ण बीता।

केरल में भारी बारिश के बीच पांच विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हुआ। एर्नाकुलम में बारिश से जलमग्न सड़कों और कुछ मतदान केंद्रों में पानी भरने के बीच मतदाताओं ने वोट डाला।

इसके चलते एर्नाकुलम में सबसे कम 53.27 फीसदी मतदान हुआ। अन्य सीटों पर मतदान 66 प्रतिशत से अधिक रहा। सबसे अधिक 75.74 फीसदी मतदान अरूर सीट पर हुआ। केरल में सामान्यत मत प्रतिशत अधिक रहता है।

निर्वाचन आयोग द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, अरुणाचल प्रदेश में खोंसा पश्चिम सीट (90 प्रतिशत) पर सबसे अधिक मतदान हुआ, छत्तीसगढ़ में नक्सल प्रभावित चित्रकोट (74 प्रतिशत), तेलंगाना के हुजुरनगर (84 प्रतिशत) और मध्य प्रदेश के झाबुआ (62 प्रतिशत) और मेघालय के शेल्ला (84.56 फीसदी) में मतदान हुआ।

इन राज्यों में एक-एक सीट पर उपचुनाव हुआ।

असम में चार विधानसभा सीटों पर उपचुनाव में 75.69 प्रतिशत वोट पड़े । बिहार उपचुनाव में यह आंकड़ा 49.50 प्रतिशत रहा जहां पांच विधानसभा सीटों और समस्तीपुर लोकसभा सीट पर उपचुनाव हुआ। महाराष्ट्र में सतारा लोकसभा सीट पर उपचुनाव में 60 प्रतिशत से अधिक मतदान हुआ।

अन्य उत्तरी राज्यों में हिमाचल प्रदेश में पच्छाद और धर्मशाला सीटों पर औसत 70 प्रतिशत मतदान हुआ जबकि पंजाब में चार विधानसभा सीटों फगवाड़ा (आरक्षित), जलालाबाद, दाख और मुकेरियां पर उपचुनाव में 60 फीसदी मतदान हुआ। राजस्थान में मंडावा और खींवसर विधानसभा सीटों पर 66 प्रतिशत मतदान हुआ।

गुजरात में छह विधानसभा सीटों पर औसतन 51 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया। अंतिम आंकड़ों की अभी पुष्टि करना बाकी है।
 

DO NOT MISS