Elections

अटल-आडवाणी के 'विरासत' को संभालने के लिए शाह ने कसी कमर

Written By Ayush Sinha | Mumbai | Published:

देश में होने वाले सियासी दंगल को लेकर हर कोई अपना दमखम झोंकने में जुटा हुआ है। हर तरफ सिर्फ एक ही गूंज उठ रही है। अबकी बार-किसकी सरकार? इस सवाल का माकूल जवाब जानने के लिए हर कोई बेकरार है, और टकटकी लगाए बैठा हुआ है। लेकिन जवाब सिर्फ एक के ही पास है। और वो है वक्त, यानि आने वाले 23 मई तो तस्वीरें साफ हो जाएंगी, कि सत्ता का बाजीगर आखिर कौन होगा।

चुनाव सिर पर है और भारतीय जनता पार्टी इस बार फुल मूड में दिखाई दे रही है। बीजेपी के सभी दिग्गज नेताओं ने अपना-अपना मोर्चा संभाल रखा है। इस बीच गुजरात के गांधीनगर से नामांकन भरने से पहले बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने हुंकार भरा और सियासी दहाड़ लगाई।

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह का ये पहला लोकसभा चुनाव है, जिसके नामांकन में कई दिग्गज शामिल जौसे केंद्रीय मंत्री राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी और पीयूष गोयल, शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, अकाली दल के प्रमुख प्रकाश सिंह बादल और रामविलास पासवान जैसे वरिष्ठ नेता शाह के साथ मौजूद है।

अमित शाह के नामांकन की तैयारी जोरों पर है। नामांकन से पहले वो मंदिर में माथा टेकने पहुंचे। जहां से महिलाओं ने कलश यात्रा निकाली। इस मौके पर कार्यकर्ताओं का उत्साह आसमान पर है।

बीजेपी अध्यक्ष के पहले लोकसभा चुनाव के मद्देनज़र खास तैयारियां की गई हैं। जिसके जरिए एनडीए अपना शक्ति प्रदर्शन करने जा रहा है। नामांकन से पहले अमित शाह ने रोड शो भी किय। इस रोड शो में करीब 25000 लोगों के शामिल हुए।

गांधीनगर सीट की खास बातें

आपको बताते हैं कि गांधी नगर सीट की खास बात क्या है? 1989 से एकतरफा मुक़ाबला रहा है, सालों से बीजेपी बड़े अंतर से जीतती रही है। इस सीट से अटल बिहार वाजपेयी, लालकृष्ण आडवाणी चुनाव जीतते रहे हैं। इस सीट में सबसे ज़्यादा वोट पाटीदार समुदाय का है। पिछले लोकसभा चुनाव में 17 लाख 33 हजार 972 मतदाता थे।

इसे भी पढ़ें - सिर्फ मोदी सरकार दे सकती है पाकिस्तान को मुंहतोड़ जवाब : अमित शाह

गांधीनगर लोकसभा सीट देश की वीवीआईपी सीटों में से एक है। यह वो सीट है जहां से बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व उप प्रधानमंत्री लालकृष्ण आडवाणी छह बार सांसद रहे हैं। गांधीनगर आडवाणी के राजनीतिक करियर के लिए बेहद खास रहा है। वह पहली बार 1991 में यहां से चुनाव जीते थे। इसके बाद 1998 से वह लगातार 5 बार चुनाव जीते। लेकिन इस बार 91 वर्षीय आडवाणी की जगह बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह को यहां से उम्मीदवार बनाया गया है।

DO NOT MISS