Elections

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले 'खफा' नेताओं से संपर्क साध रही है तृणमूल कांग्रेस

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनावों से पहले पार्टी संगठन के पुनर्गठन के मकसद से तृणमूल कांग्रेस अपने नाराज नेताओं से संपर्क साध रही है।

पार्टी के एक वरिष्ठ नेता ने बताया, 'हम ऐसा नेताओं और कार्यकर्ताओं तक पहुंच रहे हैं, जो कुछ कारणों से निष्क्रिय हो गए हैं। हम हर किसी को पार्टी में वापस लाने की कोशिश कर रहे हैं।' 

कोलकाता के महापौर और तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता फरहाद हकीम ने रविवार को शहर के पूर्व महापौर सोवन चटर्जी से मुलाकात की, जिन्होंने सक्रिय राजनीति से विश्राम ले लिया है। उन्होंने चटर्जी से पार्टी में लौटने और संगठन की जिम्मेदारी देखने को कहा है। हालांकि चटर्जी ने इस बाबत कोई भी वादा नहीं किया है।

तृणमूल कांग्रेस के जिलाध्यक्षों ने नाराज नेताओं से मुलाकात की है और उनसे 'गलतफहमियों' को भूलाकर पार्टी में वापस आने का आग्रह किया है।

इसी बीच इस तरह की खबरें मिल रही हैं कि तृणमूल कांग्रेस के कई नेता भाजपा में शामिल हो गए हैं।

पश्चिम बंगाल सरकार ने प्रख्यात समाजसुधारक ईश्वरचंद्र विद्यासागर की आवक्ष प्रतिमा तोड़े जाने के मामले की जांच के लिए सोमवार को पांच सदस्यीय समिति का गठन किया। 

राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने जानकारी दी कि इस जांच समिति की अध्यक्षता नये गृह सचिव ए बंधोपाध्याय करेंगे। कोलकाता के पुलिस आयुक्त अनुज शर्मा, पुलिस के अतिरिक्त आयुक्त जावेद शमीन और विद्यासागर कॉलेज के प्राचार्य गौतम कुंडू इस समिति के अन्य सदस्य हैं।

बनर्जी ने राज्य सचिवालय में कहा, 'चुनावों के दौरान शरारती तत्वों ने विधासागर की प्रतिमा तोड़ दी। हमने एक समिति का गठन किया है...वह मामले एवं उनके कारणों का पता लगाएगी।' 

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस मामले में दो प्राथमिकी पहले ही दर्ज कर ली गयी है और 35 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

इससे पहले ममता बनर्जी ने चुनाव के नतीजों पर ज्यादा कुछ तो नहीं बोलास लेकिन एक ट्वीट किया था जो चर्चा में रहा था. उन्होंने लिखा था: "विजेताओं को बधाई. सभी हारने वाले हारे नहीं हैं."  बताया जा रहा है कि शनिवार को टीएमसी की बैठक में लोकसभा चुनाव के नतीजों और 2021 में होने वाले राज्य विधानसभा चुनावी की रणनीति पर चर्चा हुई। पार्टी के कुछ नेताओं का कहना है कि विधानसभा चुनावों में लोग फिर से टीएमसी का साथ देंगे।

DO NOT MISS