Economy

नकदी की प्रवाह सुनिश्चित करने को बैंकों राज्यों से बात करेंगी वित्त मंत्री सीतारमण

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

कोरोना वायरस के मद्देजन लागू पाबंदियों के बीच वित्त मंत्री सीतारमण ने कहा है कि वह वैंकों और राज्य सरकारों से बात करेंगी ताकि लोगों को बैंकों से धन निकालने में दिक्कत न हो। वित्त मंत्री ने शनिवार को इस मुश्किल समय में बैंक अधिकारियों द्वारा किए जा रहे प्रयासों को लेकर उनकी सराहना की।

सीतारमण ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाएगा कि सभी को समय पर उनकी जरूरत के लिए नकदी उपलब्ध हो सके।

वित्त मंत्री ने यह भी भरोसा दिलाया कि नकदी, बैंक कर्मचारियों, वेंडरों या बैंक मित्रों की आवाजाही में कोई दिक्कत नहीं हो इसके लिए वह राज्यों के साथ बात करेंगी।

सीतारमण ने शनिवार को कई ट्वीट कर कहा, ‘‘बैंक मित्र-बैंकिंग कॉरसपॉन्डेंट देशभर में जो काम कर रहे हैं मैं उनकी सराहना करती हूं। मैं राज्यों से आग्रह करूंगी कि उनको आने-जाने में किसी तरह की दिक्कत नहीं हो। बैंकों से नकदी का प्रवाह सुनिश्चित करने को कहूंगी। हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि सभी को उनकी जरूरत के लिए समय से उनका धन उपलब्ध हो।’’

उल्लेखनीय है कि कोरोना वायरस फैलने के मद्देनजर सरकार ने हाल में गरीबों, बुजुर्गों और दिव्यांगों की मदद के लिए नकदी के प्रत्यक्ष लाभ अंतरण जैसे कई कदम उठाए हैं।

सीतारमण ने कहा, ‘‘पूरे बैंकिंग समुदाय की प्रशंसा होनी चाहिए। वे इस मुश्किल समय में बैंकिंग सेवाओं को जारी रखकर काफी साहस दिखा रहे हैं। वे ग्राहकों को समय पर और सुरक्षित सेवाएं मुहैया करा रहे हैं।’’

बैंक कर्मचारियों की सराहना करते हुए वित्त मंत्री ने कहा कि इस मुश्किल समय में वे नकदी उपलब्ध करा रहे हैं और साथ ही बैंक शाखाएं खोलकर लोगों की मदद कर रहे हैं।

भारतीय बैंक संघ (आईबीए) के अनुसार शुक्रवार को देशभर में 1,05,988 बैंक शाखाएं खुली रहीं। हालांकि, शनिवार और रविवार को बैंकों में अवकाश रहेगा।

इस बीच, आईबीए ने ग्राहकों से अपील की है कि वे सामाजिक दूरी का कड़ाई से पालन करें और जरूरत होने पर ही बैंक शाखाओं में जाएं।

आईबीए ने ग्राहकों से कहा है कि वे बैंक शाखाओं में काउंटरों को छूने से बचें और कर्मचारियों के साथ एक निश्चित दूरी बनाकर ही बातचीत करें। साथ ही ग्राहकों से कहा गया है कि वे लाइन में एक-दूसरे के बीच एक से डेढ़ मीटर की दूरी पर खड़े हों और एक समय में बैंक शाखा में 5-6 से अधिक लोग प्रवेश नहीं करें।