City News

जेएनयू के पूर्व छात्रों ने पुलिस पर अपने फ्लैट में चोरी करने का आरोप लगाया

Written By Press Trust of India (भाषा) | Mumbai | Published:

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के पूर्व विद्यार्थी और नागपुर में शोध कर रहे एक दंपति ने सोमवार को आरोप लगाया कि उनकी गैरमौजूदगी में पुलिस ने उनके किराये के फ्लैट का ताला तोड़कर दस्तावेज और 76 लाख रुपये का सामान चुरा लिया .

पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कथित घटना पिछले साल हुई थी जिसके बाद प्राथमिकी दर्ज की गई थी और जांच का आदेश दिया गया था . जांच रिपोर्ट का इंतजार किया जा रहा है .

डॉ शिवशंकर दास और उनकी पत्नी डॉ शिप्रा उकरे ने नागपुर में एक पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए आरोप लगाया कि जब वे बाहर थे तो बजाजनगर थाने के तीन कर्मी उनके मकान मालिक से साथ साठगांठ करके लक्ष्मीनगर में स्थित उनके फ्लैट में घुसे .

यह भी पढ़ें - JNU देशद्रोह मामला: चार्जशीट दायर होने के बाद कन्हैया कुमार का आरोप, ''आरोपपत्र राजनीति से प्रेरित''

दंपति ने आरोप लगाया कि पुलिसकर्मियों ने पासपोर्ट, शैक्षणिक प्रमाण पत्र, डिग्री, मार्कशीट, विदेशी मुद्रा, लैपटॉप, नकदी, आभूषण और अनुसंधान डेटा सहित दस्तावेज और कीमती सामान चुरा लिया .

उन्होंने कहा कि कथित घटना 29 सितंबर 2018 की है .

संपर्क करने पर पुलिस उपायुक्त (ज़ोन एक), विवेक मसल ने पीटीआई भाषा से कहा कि मकान मालिक और दंपति के बीच विवाद रहा है .

यह भी पढ़ें - JNU देशद्रोह मामला: कन्हैया कुमार, उमर खालिद सहित इन लोगों की बढ़ी मुश्किलें, सामने आई दिल्ली पुलिस की चार्जशीट

उन्होंने कहा कि मकान मालिक चाहते हैं कि दंपति उनका फ्लैट खाली करे . उन्होंने इस बाबत पुलिस को तहरीर भी दी है .

मसल ने कहा कि किरायेदार की शिकायत पर प्राथमिकी दर्ज की गई है .

यह भी पढ़ें - VIDEO: कन्हैया कुमार और मेवाणी पर हिंदू सेना कार्यकर्ता ने फेंकी स्याही, पुलिस ने मौके पर दबोचा..

उन्होंने कहा कि अपराध शाखा के एसीपी ने जांच की है . जांच पूरी हो गई है और रिपोर्ट का इंतजार है . इसके बाद दोषी पाए जाने पर पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी .

यह भी पढ़ें - केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो के अंतरिम निदेशक नागेश्वर राव की नियुक्ति के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर​​​​​​​

DO NOT MISS