Bollywood News

वेब सीरीज 'पाताल लोक' को लेकर मुश्किल में फंसी अनुष्का शर्मा, मिला लीगल नोटिस

Written By Digital Desk | Mumbai | Published:

अनुष्का शर्मा की डेब्यू वेब सीरीज ‘पाताल लोक’ मुश्किलों में घिरती नजर आ रही है। लॉयर्स गिल्ड ने एक विशेष सीन में नेपाल के गोरखा समुदाय की भावनाओं को आहत करने के लिए अभिनेत्री को लीगल नोटिस जारी किया गया है।

लॉयर्स गिल्ड  (Lawyers Guild) के सदस्य वीरेन सिंह गुरुंग ने सोमवार को अमेज़न सीरीज 'पाताल लोक' की को-प्रोड्यूसर अनुष्का शर्मा को एक नोटिस भेजा है। ख़बरों के मुताबिक, अनुष्का शर्मा और उनकी टीम ने नोटिस का अभी तक कोई जवाब नहीं दिया है। अगर कोई जवाब नहीं मिला तो वीरेन ओटीटी प्लेटफॉर्म अमेज़न प्राइम वीडियो से संपर्क करेंगे।

लॉयर्स गिल्ड के नोटिस के मुताबिक, ‘पाताल लोक’ के एक डायलाग ने गोरखा समुदाय की भावनाओं को चोट पहुंचाई है। सीरीज में पुलिस जांच का एक सीन है जिसमें महिला पुलिस ने अप्शब्द का इस्तेमाल किया है। वीरेन ने बताया कि दूसरे एपिसोड में पूछताछ के दौरान महिला पुलिस एक नेपाली किरदार पर जातिवादी गाली का इस्तेमाल करती है। अगर केवल नेपाली शब्द का इस्तेमाल किया गया होता तो कई दिक्कत नहीं थी, लेकिन इसके बाद का शब्द स्वीकार नहीं किया जा सकता। 

नोटिस में ये भी कहा गया है कि ऐसे समय में ये शब्द ज्यादा विवाद पैदा करता है जब कोविड-19 महामारी के कारण नेपाली समुदाय पहले से ही स्टीरियोटाइप का सामना कर रहा है।

ये भी पढ़ें: ‘पाताल लोक’ ट्रेलर: ये कहानी है सबसे खतरनाक मर्डर की, 15 मई को होगी रिलीज़

केंद्रीय सूचना और प्रसारण मंत्रालय को लिखी इस याचिका में नेपाली समुदाय ने इस शब्द को म्यूट करने और सबटाइटल को ब्लर करने के लिए कहा है। उन्होंने अपमानजनक शब्द के इस्तेमाल के लिए माफी मांगने को भी कहा है। इसके अलावा, उन्होंने ओरिजिनल एपिसोड की जगह एडिटेड एपिसोड को अपलोड करने के लिए कहा है। 

याचिका में उल्लेख किया गया है कि ये अनुष्का शर्मा के खिलाफ कोई व्यक्तिगत लड़ाई नहीं है बल्कि उन स्टीरियोटाइप के खिलाफ है जो नेपाली भाषी समुदाय के प्रति अपमानजनक हैं। 

गोरखा समुदाय के मुताबिक ये गाली उनके पूरे वंश को नीचा दिखाती है। मीडिया से बात करते हुए, भारतीय गोरखा युवा परिसंघ के अध्यक्ष नंदा कीर्ति दीवान ने कहा कि क्रिएटिव फ्रीडम के नाम पर लोगों को ऐसा कंटेंट देखना बंद कर देना चाहिए जो किसी समुदाय को गलत रौशनी में दिखाता है।

साक्षी बंसल की रिपोर्ट