Bollywood News

श्रद्धा कपूर सहित बॉलीवुड सितारों ने मेट्रो के लिए पेड़ों को काटे जाने का किया कड़ा विरोध, BMC पर उठाए सवाल

Written By Neeraj Chouhan | Mumbai | Published:

बॉलीवुड अभिनेत्री श्रद्धा कपूर मेट्रो यार्ड के निर्माण के लिए आरे वन में 2700 से अधिक पेड़ों को काटे जाने के खिलाफ प्रदर्शन में रविवार को शामिल हुईं। उन्होंने बृहन्मुंबई महानगरपालिका के वृक्ष प्राधिकरण के फैसले को ‘‘बेतुका’’ बताया।

कई अन्य लोगों ने भी टि्वटर पर सरकार से अपने फैसले पर पुनर्विचार करने और उसे पलटने के लिए कहा। बीएमसी के वृक्ष प्राधिकरण ने उपनगर गोरेगांव से जुड़ी आरे कॉलोनी में मेट्रो यार्ड का निर्माण करने के लिए 2,700 से अधिक पेड़ों को काटने की बृहस्पतिवार को मंजूरी दे दी। आरे वन को शहर का प्रमुख हरित क्षेत्र माना जाता है।

प्रदर्शन के तहत लोगों ने आरे वन में रविवार सुबह मानव श्रृंखला बनाई। श्रद्धा ने कहा कि वह पेड़ काटने की ‘‘हैरान’’ करने वाली अनुमति देने को लेकर शिकायत दर्ज कराने के वास्ते प्रदर्शन में शामिल हुई और उन्हें उम्मीद है कि यह फैसला पलटेगा।

अभिनेत्री ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर लाइव करते हुए कहा, ‘‘हम सभी यहां प्रकृति मां का समर्थन करने के लिए एकजुट हुए हैं। हमारे यहां पहले ही प्रदूषण की समस्या है तो पेड़ों को काटने की अनुमति कैसे दी जा सकती है।’’ 

श्रद्धा अकेली बॉलीवुड हस्ती नहीं हैं जिन्होंने इस फैसले पर विरोध दर्ज कराया है।

अभिनेत्री दिया मिर्जा ने टि्वटर पर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़णवीस को टैग किया और लिखा, ‘‘मेट्रो के खिलाफ नहीं हूं। कृपया उसे बनाए। लेकिन पारिस्थितिकी तंत्र बिगाड़ने की कीमत पर नहीं जो हमारी अमूल्य सेवा करता है। कार शेड के लिए विकल्प हैं।’’ 

अभिनेत्री रवीना टंडन ने भी इस फैसले पर आक्रोश जताते हुए ट्वीट किया, ‘‘हैरान हूं कि हम इसे होने दे रहे हैं। नागरिकों की आवाजों को सुना क्यों नहीं जा रहा?’’ 

अभिनेता रणदीप हुड्डा ने कहा कि आरे में पेड़ों को काटा जाना ‘‘बहुत दुखद खबर’’ है और उन्होंने इस संदेश के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को टैग किया।

अभिनेत्री ईशा गुप्ता ने भी इस कदम को ‘‘बेतुका’’ बताया। कॉमेडियन कपिल शर्मा ने कहा कि सरकार काफी समझदार है और मुझे उम्मीद है कि वह उचित फैसला लेगी।  गायक शान ने कहा कि इस पर काफी बहस हो चुकी है लेकिन अभी तक किसी ने भी मेट्रो यार्ड के लिए वैकल्पिक स्थान नहीं सुझाया है। 

उन्होंने कहा, ‘‘हम कोई समाधान नहीं बता रहे। निश्चित तौर पर हम पेड़ों को कटने देना नहीं चाहेंगे, ऐसा नहीं होना चाहिए। हमें इससे बचना चाहिए।’’ 

DO NOT MISS